तस्वीरें – Poetry on memories

photos, hindi poetry on memories, memories are stored in our photos

तस्वीरें

यादों के झरोखों से
बातें हशीन कह जातीं हैं ये तस्वीरें।

वक़्त बेवक़्त चुपके से
बचपन कीयादें दे जातीं हैं ये तस्वीरें।

आज के लम्हों को सँवारते हुए
कल के लिये लम्हें बनाती हैं ये तस्वीरें।

बिन शब्दों के जो बयान करे है,
वो बातें हैं ये तस्वीरें।

कभी मुस्कुराते हुए, कभी पलकों से
अश्क बनकर नज़र आती है तस्वीरें।

तन्हा यादें होतीं हैं या
सपनों को छिपा कर रखतीं हैं ये तस्वीरें?

दीवार के सहारे या फिर मेज पर पड़े
पुरानी दास्तान सुनाती है ये तस्वीरें।

वो प्यार… वो साज,
मेरे वो लम्हें हज़ार दिखाती है ये तसवीरें।

खुद को हम भूल न जाए,
कहीं ओझल न हो जाए… समझाती है ये तस्वीरें।

धन्यवाद

Written by- Anjali Bharati

 

Watch our video on youtube : Click this link

कुदरत- A Poetry On Nature

 

कुदरत

परदे को हटा देखी है नई सुबह
मद्धम सी रौशनी हौले से बिखरी है।
खुशबू फूलों की, मुस्कुराहट इन कलियों की,
गुनगुनाती ये हवा मुझे मुझसे मिला रही है।

उमड़ घुमड़ नाच रही है बदरिया
आसमान से रंग बरस रहा है।
झूम रहा है मेरा मन
पल ये बड़ा हसीन बना है।

जी चाहता है मैं खुद उड़ जाऊं,
संग पंछियों के मैं एक सैर कर आऊं।
रहता हूँ मैं जिस ज़मीन पर,
एक बार उसे ऊपर से देख आऊं।

होने लगती है दिल से बात अक्सर
जब भी होता है ऐसे मौसम का आगाज़,
मैं आँखें बंद कर लेता हूँ इस मदहोश फिज़ा में
जब ये आहटें छू लेती हैं मेरे जज़्बात।

ऐ कुदरत! तू जैसी है
हर सुबह ऐसी ही मिले।
बेख़बर इस जहां में
मुझे तेरा आँचल मिले।।

धन्यवाद

Written by – Anjali Bharati

Video Link – https://youtu.be/oFIm_NZTWs0